भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोटोॅ में गीता / मीरा झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब नैतिकता, सब मानवता
ताक पर धरी केॅ कहलकोॅ
अदालत में ई सब नै चलै छै
लागै छै सबकेॅ लावे पढ़ना चाहियोॅ

कत्तेॅ सें बचभेॅ जानथौं
वकील छिकै कहथौं
ऐकरा सें नै लागियोॅ
कखनूँ कहाँ कखनी कहाँ
कोनोॅ मुकदमा ठोकी देथौं
नै कहेॅ पारियोॅ, ओकरोॅ
सबटा जुर्म लाचारी
ब्रह्मचारी जकाँ सुनतें रहोॅ
सहतें रहोॅ...

कठपुतली बनाय केॅ नचैतैं रहथौं
होईकोर्ट देखाय देभौं, कहतें रहथौं
सुप्रीम कोर्ट देखाय देभौं सुनतें रहोॅ
चल्लोॅ जैथौं कोय ठेकाना नै।

जमाय बहू में ओकीलें
राम-राम-राम-राम
एक पर एक प्रपंच रचै छै
न्याय के सँगें क्रूर मजाक
तारीख पर तारीख आरू
प्रपंच के प्रमाण पत्र भरलोॅ
कोटोॅ में छौं गीता धरलोॅ