भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोनीं लाधै बै दिन / हनुमान प्रसाद बिरकाळी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब कोई सोधै
उण दिनां नै
जिका खुद
हाथां गमा दिया
जिण दिनां में होंवता
हेत अर प्रीत
नाच अर गीत
लीर-लीर कुड़ती में
धपटवों सुख
मा री गाळां
घी री नाळां
बाप री धोळ
ऐवड़ रा टोळ
कोनीं लाधै
अब मोकळो फिरोळ!