भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोन राय को बिछुआ / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कोन राय को बिछुआ
कोका डाण्डा मऽ जाय रे
आग लगी बाग दरीयाव सी
मऽरोऽ नान्हो सा।।
मऽराऽ भैया को बिछवा
लाल बिछवा
बहिन का डाण्डा मऽ जाय
मऽरोऽ नान्हो सा।।
बहिनऽ ख चाबी पेंदड़ मऽ
डेहर डेहर हिण्डरायी
मऽरो नान्हो सा।।