भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कोमल कमल हेनो मंजुल मनोहर ई / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोमल कमल हेनो मंजुल मनोहर ई
परम पवित्र सुचिता के ही निशानी छै।
सुखद सहज देखी शोक केॅ भुलावैवाली
मन सें कलुषता केॅ दूर विलगानी छै।
हीनता हैरानी दुख दीनता मिटावै सब
रसें रसें रसै बसै रूप गुणी मानी छै।
सब गुण खान कवि कर्म के भी जान छेकै
प्राण कला कृतिहौ के रूप महारानी छै॥