भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कोयला बाई बोले / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कोयला बाई बोले
जंगल मऽ कोयल बाई बोले
पीहू रे पीहू करअ् रही।
मण्डवा मऽ लाड़ी बाई बोले
बाबुल रे बाबुल करअ् रही।
ओका बाबुल खऽ देओ रे बुलाय
साँवल वर ढूँढ लाहे।।