भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोसी के माँग में टीका शोभत है / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कोसी के माँग में टीका शोभत है
सिनुरा सोहत अजब रंग हे कोसी माय
खेलते हैं चैहटिया ।
खेलत है चैहटिया हे कोसीमाय
ओढ़त है ओढ़निया
कोसी के गला में हँसुली सोभत है
हरवा सोहत अजब रंग हे कोसीमाय
खेलत हैं चैहटिया ।
कोसी के बाँहि में बाजुआ सोभत है
बजुआ सोहत अजब रंग हे कोसी माय
खेलत हें चैहटिया ।
कोसी के पहुँचा में चुड़िया सोभत है
चुड़िया सोभत अजब रंग हे कोसी माय
खेलत हैं चैहटिया ।
कोसी के डाँड़ में घघरा सोभत है
घघरा सोभत अजब रंग हे कोसीमाय
खेलत हैं चैहटिया ।
कोसी के पैर में पायल सोभत है
पायल सोभत अजब रंग हे कोसी माय
खेलत हैं चैहटिया ।
खेलत है चैहटिया हे कोसिका
आढ़त है ओढ़नियाँ ।