भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

को त अखि भी खणे, खणण जी तरह / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

को त अखि भी खणे, खणण जी तरह।
को त दिल भी रखे, रखण जी तरह॥

न किथे थियो विहणु, विहण जी तरह।
न किथे दिल लॻी, लॻण जी तरह॥

याद जे थधिड़े सां कुरण थो लॻे।
फटु न दिल जो छुटो, छुटण जी तरह॥

दर्द फेरो ॾई वरिया दिल ॾे।
को हितां कीन वियो, वञण जी तरह॥

चन्द बूंदूं ख़ुशियुनि वसायूं, पर।
दर्दु ई आ वसियो, वसण जी तरह॥

मां त बेपोश थी छुलियो आहियां।
तूं किथे थो खुलीं, खुलण जी तरह॥

शइर में नूरु कीअं झलिके, कमल।
दिल किथे आ जली, जलण जी तरह॥