भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौनसा बीज था/ वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कब एक बीज
आ गिरा था
मुझमें

आंखों में
सरसराई हरीतिमा
मन में
किसकिसाए पत्ते

पलने लगे थे
देह में
रतनारा गुलमोहर
सुनहला अमलतास
दहकता पलाश
या विराट बरगद

भीनी सी रातरानी
महकता महुआ
बरसता हरसिंगार
कि रिसता गुलाब

तुम एक पथिक
थके मांदे
खिंचे चले आए

क्या बता सकोगे
वह हरीतिमा
वह महक कैसी थीं

वे फूल कौन से थे