भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन के घर केओड़े कौन के घर अनार संजूना वारी / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन के घर केओड़े कौन के घर अनार संजूना वारी।
सास के घर केओड़े बारी ननदी के घर अनार संजूना वारी।
काहे से सींचौ केओड़े काहे से लाल अनार जूना वारी।
दुधुअन सींचौ केओड़े अमरित लाल अनार औ संजना वारी।
काये से गोड़ो केओड़े और काये सें लाल अनार संजूना वारी।
कुदरन गोड़ों केओड़े औ खुपरन लाल अनार रंगजूनावारी।
कै फुल फूले केओड़े के फुल लाल अनार संजूना वारी।
नौ फुल फूले केओड़े दस फुल फुले लाल अनार ओ जूनागढ़ वारी।
कौना के लटके केओड़े कौना के लाल अनार संजूना वारी।
सास के लटके केओड़े बारी ननदी के लाल अनार संजूना वारी।
काये में तोड़ूँ केओड़े काये में लाल अनार संजूना वारी।
उलियन तोड़ो केओड़े छवलन लाल अनार संजूना वारी।
कौना के आ गये पाहुने कौना के चलाउनहार संजूना वारी।
सास के आ गए पाहुने वारी ननदी के चलाउनहार संजूना वारी।
कौन से रांदी कूदरी कौन से मुटसर भात संजूना वारी।
सास से रांदी कूदरी ननद के मुटसर भात संजूना वारी।
सास के आये जे गये वारी ननदी के दये सरकाय संजूना वारी।
जैसी ताती लुचरी वैसी पर घर जोय रंगजूना वारी।
झटपट झटपट जे लई तुरतई दई सरकाय संजूना वारी।
जैसी बासी खेचरी वैसी घर की जोय संजूना वारी।
जेउत बनी सो जे लई नातर दई सरकाय संजूना वारी।
मेरे पिया की पागड़ी उतरी मलिनिया के द्वार संजूना वारी।
मेरे पिया की धोती सूखे मलिनिया के द्वार संजूना वारी।
मलिन निकरी पनिया भरन लड़का बिटियाँ साथ संजूना वारी।
आधे लड़का बाँट दै जे मेरी पिया की उनहार संजूना वारी।
आधे लड़का न बाँट हौं घरई पिया कौ समझाऔ संजूना वारी।