भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन कौ मुरगा रंगौ चंगौ मगरे दै आवाज / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन कौ मुरगा रंगौ चंगौ मगरे दै आवाज।
हमरे ससुरा कौ मुरगा रंगौ चंगौ सो मगरे दै आवाज।
ननदी की सास नै मोलायो सो लै गई मगरे मार।
कौन कौ मुरगा...
हमरे जेठा कौ मुरगा रंगौ चंगौ सो मगरे दे आवाज।
दूल्हा की बहिना ने मोलायौ सो लै गई मगरे मार।
कौन कौ मुरगा...