भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन मानेगा / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जानता हूँ
सुबह का यह सूरज
ढल जाएगा शाम तक

लेकिन इस बीच
दोपहर की लम्बी तपन में
हड्डियों के पसीजने की बात
कौन मानेगा ?