भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन सा भेदी नऽ भेद बतायो / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कौन सा भेदी नऽ भेद बतायो
कौन सा नऽ सगुन लिखायो मऽराऽ बाबुल
मऽराऽ बाबुलजी की डेरी बिरानी।।
नौवा सा भेदी नऽ भेद बतायो
ब्रह्मण नऽ सगुन बतायो मऽराऽ बाबुल
मऽराऽ बाबुलजी की डेरी बिरानी।
मर जातो ऊ नौवा, मरऽ जातो बह्मना
काहे मरी लगुन निकाली रे बाबुल
मऽराऽ बाबुल जी की डेरी बिरानी।।
कौन सा भेदी नऽ सगुन लिखायो
कौन सा नऽ लगुन लिखाई रे बाबुल
मऽराऽ भैय्या जी की डेरी बिरानी।।
आब काहे रोवय मऽरोऽ भोरो सो भैय्या
बहिना ते होय ऽ गई परायी।।