भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन हैं, हम तुम / पुरुषोत्तम सत्यप्रेमी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शब्द की यात्रा में
निकले कौन हैं हम तुम?
समय का परिवेश
फिर भी मौन हैं हम तुम
शब्द किसी के
गुनगुनाते रहे भौरें-से
फिर भी मौन हैं हम तुम

शब्द किसी के
चमचमाते भोर के तारे-से
फिर भी मौन हैं हम तुम
शब्द की छाँव में
पले-बढ़े
फिर भी मौन हैं हम तुम

शब्द किसी के
थिरकते रहे वीणा के झंकृत तार-से
फिर भी मौन हैं हम तुम
शब्द किसी के
सहलाते रहे कनुप्रिया की मनुहार-से
फिर भी मौन हैं हम तुम

शब्द के रचाव में
सजे-सँवरे
फिर भी मौन हैं हम तुम
शब्द किसी के
इठलाते रहे रंग-बिरंगी तितली-से
फिर भी मौन हैं हम तुम

शब्द किसी के
धमकाते रहे कड़कती बिजली-से
फिर भी मौन हैं हम तुम
शब्द के बिखराव में
सँभले-गिरे
बुलबुलाते रहे बीसवीं सदी-से
फिर भी मौन हैं हम तुम

प्रश्न यही है आज
यक्ष-सा मेरे सामने
बोलो तो कौन हैं हम तुम
देव दानव मानव
हम तुम
बोलो तो कौन हैं हम तुम?