भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन है तुझ से दा-चार नहीं / 'शोला' अलीगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन है तुझ से दो-चार नहीं
एक मैं ही ये गुनाह-गार नहीं

हाए फ़स्ल-ए-बहार ओ जोश-ए-जुनूँ
याँ गिरेबाँ में एक तार नहीं

सैंकड़ों दर्द इक नहीं दरमाँ
लाख ग़म कोई ग़म-गुसार नहीं

वस्ल क्या जब न हिज्र के हों मज़े
वादा क्या जिस का इंतिज़ार नहीं

हात आ जाए आप का दामन
हश्र का भी कुछ इंतिज़ार नहीं

क्या सबात दो-रोज़ा पर मर के
ज़िंदगी का कुछ ऐतबार नहीं

उस के कुश्तों का क्या पता ‘शोला’
कहीं तुर्बत नहीं मज़ार नहीं