भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन हो तुम, पहचान गए / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन हो तुम, पहचान गए
देर लगी पर जान गए

अब तो बस हैवान हैं सब
जितने थे इन्सान, गए

चिलमन से वह क्या झाँके
सबके ही ईमान गए

घर के बँटवारे में सब
दरवाज़े, दालान गए

मेरी किसने सुनी 'हसीन'
उनकी सारे मान गए