भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौवा झौहर / सुधीर कुमार 'प्रोग्रामर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौवा झौहर आय फेरु हुयै छै
लहू सं घरऽ के ओलती चुयै छै।

ढूकी घरो में, खटिया के तरऽ में,
खोजी-खोजी सब्भे केॅ मारै छै।
मारी मारी कं बोतल तोड़ैं छै,
कोय चूड़ी फोड़ी सिन्दुर धुयै छै।
कौवा झौहर आय फेरु हुयै छै।

हवाई जहाज कोय मोटर कार सेॅ
आबी कं नेता फोटो खिचाबै छै,
नौकरी, रुपा, कम्बल दिलाबै के
धड़फड़ गप्पो सं कत्ते कुढावै छै।
कौवा झौहर आय फेरु हुयै छै।

पुलिस घेरी केॅ जानऽ पेॅ खेली केॅ
पकड़ी-पकड़ी कं जेलऽ मं लाने छै
टन-टन फोन करी नेता बेईमान
घंटेदू घंटा मेॅ छोड़ाबै छै
कौवा झौहर आय फेरु हुयै छै।