भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौशल्या / चौदहमोॅ खण्ड / विद्या रानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैन्होॅ राम छे वैन्हेॅ काम,
जग जीति केॅ अइलोॅ राम ।
अबेॅ हुनकोॅ अभिषेक करोॅ,
सिंहासन पर बैठाय केॅ आँख भरोॅ ।

सभै के कामना पूर्ण होय गेलै,
फिनु अभिषेक के सामान मंगलकै ।
राजा राम बनलै अयोध्या में,
तिरपित होलै कौशल्या मनोॅ में ।

अभिषेक के बाद जखनी राम नें,
करलकै कौशल्या केॅ परनाम ।
मात नें हिरदय लगैलकै,
पावि गेलै सुखोॅ के धाम ।

विवेकपूर्ण रहली कौशल्या,
मुख चूमी चूमी खुश भेली ।
केतनो दुख दै छै विधाता,
समय अइतै सुख पावै छै ।

कौशल्या मन पूरी गेलोॅ छै,
आखिर राम राजा बनलोॅ छै ।
गेलोॅ धन लौटी अयलोॅ छै,
कुकाल बीती सुकाल अयलोॅ छै ।

आपनोॅ सुत केॅ हिय लगाय केॅ,
गोदी में ओकरा सुताय केॅ ।
पूछेॅ लगली कौशल्या माय,
केना मारलौ राक्षस केॅ जाय ।

केमल शरीर सुकुमार हाथ,
एतना तीर चलैलौ केना ।
दस दस मुख वाला बड़का राक्षस केॅ,
तोहें मारि गिरैलौ केना ।

लछमन के मूर्छा अयला पर,
धीर केना तोहें धरलौ ।
ओकरोॅ जान बचाय के तोहं,
मेघनाथ के केना मारलौ ।

जेतना दुख वन के सोचलेॅ छेलै,
ऊ तेॅ कुछु छेवे नै करलै ।
ओकरा सें चैगुना दुख मिललौ,
तोहें केना सहेॅ पारले छौ ।

सिर सहलाय लागली माता,
हाथ गोड़ सब निरखेॅ लगली ।
निर्मल कोमल श्यामल वदनोॅ के शक्ति,
छुवि छुवि केॅ परखे लागली ।

हारलोॅ मन जीती गेलोॅ छेलै,
मरलोॅ धान में पानी पड़लोॅ छेलै ।
माय कौशल्या अति गुणवंती,
पुत्रा धन फिनु पावी गेलोॅ छेलै ।

कहलकोॅ राम सुनु हे माता,
सहलियै हम्में जे एतना आघात ।
तोरोॅ आशीर्वाद उहाँ पहुँचै छेलै,
अँचरा के छहारम वहाँ मिललोॅ छेलै ।

तोरोॅ देहे यहाँ छेलो मन कहाँ छेलोॅ,
हमरा लागै छै हमरे ऊहाँ छेलोॅ ।
एक्को छन हमरा भुलैलोॅ की?
हमरा संग तोहें नै छेलौ की ।

तोरे आशीष सें रण जीतलियै,
वन खेली घर आवि गेलियै ।
जौं तोहें आशीष नै देतिहौं,
सच्चे कहे छियौं जीते नै पारतियौं ।

एही रंग सुरु वाद करलकै,
माता पुत्रा दुनु खूब बोललकै ।
हिरदय जुड़ैलकोॅ कौशल्या रानी,
सुनि सुनि वनगमन केरोॅ कहानी ।

जाय ताँय जीली पुत्रा सुख पैलकी,
राम माय बनी केॅ यश पैलकी ।
दया पूर्ण सुखों के सागर,
धीरज भरलोॅ विवेक के गागर ।

आपनोॅ रंग के आपने चरित छै,
कोय नै हिनका रंग होलोॅ छै ।
गुण गावै छै सब वेद पुराण,
पुण्य परताप सें पैलकोॅ पूत राम ।

कौशल्या छै कल्याणोॅ के मूरति,
परनाम करै छियै हुनका सुमरि ।
सुन्दर सगुन शुभ मंगल दहु माय,
राम सीता के किरपा दिलावोॅ आय ।

जे हुनका रंग धीर धरै छै,
दुख समुद्र संपार करै छै ।
बुद्धि विवेक सें विचारी केॅ,
कुटुम्बोॅ के बाँधि राखै छै ।