भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या करूँ मैं / निलय उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पत्नी घर में नहीं और रुपए भी नहीं
और समान ज़रूरी-कहीं तो जाना ही होगा
इस घर के लिए आज

अरे!
यह तो मैं सोच भी नहीं सकता था कि
दुकानदार चलकर आएगा मेरे घर,
कहेगा- नमस्कार
वो जो आपकी मैडम हैं, बोल गई थीं कुछ सामान

रजिस्टर को भी देख लें, इसमें लिखा है
आपका ही नाम...।