भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या क्या मज़े से रात की अहद-ए-शबाब में / मीर 'तस्कीन' देहलवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या क्या मज़े से रात की अहद-ए-शबाब में
छोडूँ न उम्र ए रफ़्ता गर आ जाए ख़्वाब में

इक दिल के वास्ते ये फँसे वो अज़ाब में
रहते हैं अपनी ज़ुल्फ़ ही के पेच-ओ-ताब में

है शौक़-ए-वस्ल तुझ से लिपटता हूँ बार बार
वरना ये मस्तियाँ तो नहीं थीं शराब में

इतनी न कीजे जाने की जल्दी शब-ए-विसाल
देखे हैं मैं ने काम बिगड़ते शिताब में

हो जाए चाक सीना के दिल घुट के मर चला
ऐ चारा-जू किसी को फँसा मत अज़ाब में

कर बहर ओ बर की हस्ती-ए-मौहूम पर नज़र
थोड़ी सी ख़ाक डाल डी चश्म-ए-पुर-आब में

तब क़त्ल-गह में क़त्ल-ए-उदू को चले हैं वो
मेरा लहू मिला के पिया जब शराब में

किन महनतों से वस्ल पे राज़ी हुए हैं वो
सौ नाम-बर हुए जो सवाल ओ जवाब में

अख़्तर-शुमारियों में निकलमा है दम कहीं
‘तस्कीं’ तुम्हीं को दख़्ल नहीं है हिसाब में