भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या तमाशे कर रहा है आदमी / आनंद कुमार द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या तमाशे कर रहा है आदमी
अब नज़र से गिर रहा है आदमी

बिन लड़े जीना अगर संभव नहीं
बिन लड़े क्यों मर रहा है आदमी

हर जगह से हारकर, सारे सितम
औरतों पर कर रहा है आदमी

देश की नदियाँ सुखाकर, फ़ख्र से
बोतलों को भर रहा है आदमी
  
हाथ में लेकर खिलौने एटमी
आदमी से डर रहा है आदमी

योग, पूजा, ध्यान नाटक है, अगर
भूख से ही लड़ रहा है आदमी

है पड़ी स्विच-ऑफ दुनिया जेब में
ये तरक्की कर रहा है आदमी