भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

क्या तुम हो / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो
जो रूई की बनी थी
उसका अंग अंग
उतना ही कोमल था
जितनी कोमल थी
आंगन में खड़े
सेमल की रूई,
वो चलती थी तो
ऐसे जैसे
हवा में तैर रहे हों
सेमल के फुंदे
वो मेरे
दिलो-दिमाग पर छाई
और
अपनी कोमलता को
बाँटती बर्बाद हो
अनंत आकाश में
फैल गई
व्याप गई
कण-का में
उसे अपनी बाँहों में
समेटने नभ भी छोटा था।