भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या पाया / सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुशियाँ ढूंढने चले
        ग़म राह में गड़े थे.
                        ग़मों को चुन कर हटाया
                                           दर्द साथ ही खड़े थे.
दर्द से रिश्ता जोड़ा
      आंसू झर-झर झड़े थे.
                         आंसुओं को जब समेटा
                                  दिन जीवन के कम पड़े थे.