भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या बचा है शेष ? / आन्ना अख़्मातवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब इस
भरी-पूरी दुनिया में
क्या बचा है शेष ?

शेष बची है रोटी
बचे हुए के वास्ते

शेष बचे हैं बोल
रसभरे मीठे घोल

शेष बची है दो टुक
चिड़िया की चहचहाट
टी-बी-टी-टुट-टुट

(1941)

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : सुधीर सक्सेना