भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या यह आमन्त्रण गान सुनाया ? / विजयदान देथा 'बिज्‍जी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊषे!
तुम्हीं ने... बोली री
क्या यह आमन्त्रण गान सुनाया?

मेरे तमिस-जीवन के
चिर सहचर प्रियतम को
देकर सब दुखमय जीवन का भार!

निद्रा के अदृश्य अपरिमित पट पर
देख रहा था होकर निमग्न
बस केवल तेरा ही
सुखमय सुन्दर स्वप्न!

चढ़कर उस स्वप्न-विहग की पाँखों पर
तुम्हें पाने की सुमधुर आशा में
उड़ रहा था गति सत्वर से
फर-फर कर मर-मर
होकर विह्नल-सा अति आकुल!

पर जाग रे जाग उठ.... ओ नादान युवक
स्वप्न का संसार त्याग
अम्बर के पट पर कर ले
सचमुच की ऊषा का दर्शन!
अरुण शिखी के
इस मधुर-मधुर कलरव में
मेर इस दीन दशा पर करुणा कर
किसने यह शुभ सन्देश दिया?

ऊषे!
तुम्हीं ने .... बोली री
क्या यह आमन्त्रण गान सुनाया ?