भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या सरोकार अब किसी से मुझे / ज़िया जालंधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या सरोकार अब किसी से मुझे
वास्ता था तो था तुझी से मुझे

बे-हिसी का भी अब नहीं एहसास
क्या हुआ तेरी बे-रूख़ी से मुझे

मौत की आरज़ू भी कर देखो
क्या उम्मीदें थीं जिंदगी से मुझे

फिर किसी पर न ए‘तिबार आए
यूँ उतारो न अपने जी से मुझे

तेरा ग़म भी न हो तो क्या जीना
कुछ तसल्ली है दर्द ही से मुझे

कितना पुरकार हो गया हूँ कि था
वास्ता तेरी सादगी से मुझे

कर गए किस क़दर तबाह ‘ज़िया’
दुश्मन अंदाज़-ए-दोस्ती से मुझे