भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या ही मजे से बजती है घनश्याम की बंसी / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या ही मजे से बजती है घनश्याम की बंसी।
मोहन बजा दो फिर वही विश्राम की बंसी।
बंसी की मधुरता का मज़ा मिलता है मुझको,
जिस वक्त बजाता हूँ तेरे नाम की बंसी।
अधरों पै उसे रखके बजाते थे जिधर तुम,
बजती थी उधर प्रेम के पैगाम की बंसी।
उस बाँस की बंसी की कशिश का था ये दावा,
आशिक थी बेशुमार तने चाम की बंसी।
बंसी को बजाते हुए दृग ‘बिन्दु’ में तुम हो;
जब बजने लगी आख़िरी अंजाम की बंसी।