भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या है मुझमें / नौ बहार साबिर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बून्द पानी की हूँ थोड़ी-सी हवा है मुझमें
इस बिज़ाअ’त[1] पे भी क्या तुर्फ़ां[2] अना[3] है मुझमें

ये जो इक हश्र[4] शब-ओ-रोज़[5] बपा[6] है मुझमें
हो न हो और भी कुछ मेरे सिवा है मुझमें

सफ़्हा-ए-दहर[7] पे इक राज़ की तहरीर[8] हूँ मैं
हर कोई पढ़ नहीं सकता जे लिखा है मुझमें

कभी शबनम की लताफ़त[9] कभा शो'ले की लपक
लम्हा-लम्हा ये बदलता हुआ क्या है मुझमें

शहर का शहर हो जब अरसा-ए-मशहर[10] की तरह
कौन सुनता है जो कुहराम मचा है मुझमें

तोड़कर साज़ को शर्मिन्दा-ए-मिज़राब[11] न कर
अब न झंकार है कोई न सदा है मुझमें

वक़्त ने कर दिया 'साबिर' मुझे सहरा-ब-किनार[12]
इक ज़माने में समुन्दर भी बहा है मुझ में

शब्दार्थ
  1. पूँजी
  2. विचित्र
  3. अहम्
  4. प्रलय
  5. रात-दिन
  6. मचा हुआ
  7. संसार रूपी पन्ना
  8. पाठ, लेख, इबारत
  9. कोमलता
  10. प्रलय-क्षेत्र
  11. साज बजाने का कोण या डंका
  12. मरुस्थल की गोद में