भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या होता ई-मेल, सुनो! / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समझ न पाए तो अब समझो,
क्या होता ई-मेल सुनो!

आया है ई-मेल चीन से
खबर गई जापान में,
भैया ने ई-मेल किया तो
लगा कि बाले कान में।
दिल से दिल को मिला रहा जो
अजब-अनोखा खेल, सुनो!

अमरीका से पापा लिखते-
बोलो, कैसी तबीयत है?
मम्मी ने ई-मेल पढ़ा तो
लिखा कि अब तो राहत है।
झटपट-झटपट बात कराए,
जादूगर ई-मेल, सुनो!

बिना टिकट का एक लिफाफा
पल में चक्कर काटे,
लिखो प्यार की बातें, सबका
ही सुख-दुख जो बाँटें।
दूत यही है नए जमाने
का प्यारा ई-मेल, सुनो!