भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्यूं तुझको लग रहा है कि तुझसे जुदा हूँ मैं / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


क्यूं तुझको लग रहा है कि तुझसे जुदा हूँ मैं
मुझमें तू खुद को देख तेरा आईना हूँ मैं

ऐ दिल ! तेरा यकीन तो तोड़ा है सभी ने
दुनिया की बात क्या करूँ ख़ुद से ख़फ़ा हूँ मैं

बस तेरा आसरा है मुझे ऐ मेरे खुदा
सजदे में तेरे हर घडी महवे-दुआ हूँ मैं

अल्लाह रे ज़माना-ए-हाज़िर का क्या करें
हर शख्स कह रहा है यहाँ पर खुदा हूँ मैं

कितना ज़माना हो गया भूली हूँ मैं हँसी
लगता हैं जैसे दर्द का इक सिलसिला हूँ मैं

तेरे बगैर मैं तो अधूरी थी शायरी
पहचान खुद से जब हुयी जाना सिया हूँ मैं