भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्यों इन आँखिन सौं निरसंक / मतिराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


क्यों इन आँखिन सौं निरसंक ह्वै मोहन को तन पानिप पीजै.

नेक निहारे कलंक लगै इहि गाँव बसे कहौ कैसे के जीजे .

होत रहे मन यों ‘मतिराम’ कहूँ बन जाय बरो तप कीजे .

ह्वै बनमाल हिए लगिय अरु ह्वै मुरली अधर- रस पीजे .