भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

क्यों न? / रत्नेश कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस पार राम
उस पार राम
क्यों न बढ़ें भैया
रोज़-रोज़ दाम?
ह्रदय में रावण
मुँह में राम
क्यों न हो भैया
सुबह में शाम?