भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्यों बिसरै मेरा पीव पिया/ दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्यों बिसरै मेरा पीव पियारा।
जीवकी जीवन प्राण हमारा॥टेक॥

क्यौंकर जीवै मीन जल बिछुरें, तुम बिन प्राण सनेही।
चिंतामणि जब करतैं छूटै, तब दुख पावै देही॥१॥

माता बालक दूध न देवै, सो कैसैं करि पीवै।
निरधनका धन अनत भुलाना, सो कैसे करि जीवै॥२॥

बरखहु राम सदा सुख अमिरत, नीझर निरमल धारा।
प्रेम पियाला भर भर दीजै, दादू दास तुम्हारा॥३॥