भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्यों भटकता कोई बैचैन अँधेरों की तरह / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्यों भटकता कोई बेचैन अँधेरों की तरह
ज़िन्दगी होती अगर रैन-बसेरों की तरह

ग़ज़नबी की ज़रा फ़ितरत को तो देखो यारो
वि थाहाकिम मगर आया था लुटेरों की तरह

जब बुलाएँगे समन्दर के तलातुम हमको
हम उतर जाएँगे बेखौफ़ मछेरों की तरह

मैं भी नागिन को जुदा नाग से करता लेकिन
दिल नहीं था मेरा पाषाण सपेरों की तरह

दर्द उस खेत की मिट्टी का बताऊँ कैसे
ज़िन्दगी जिसने गुज़ारी है मुँडॆरों की तरह.