भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

क्यो रोये मोरी माई हो ममता / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

    क्यो रोये मोरी माई हो ममता
    क्यो रोये मोरी माई

(१) तो पाँच हाथ को कफन बुलायो,
    उपर दियो झपाई
    चार वेद चैरासी हो फेरा
    उपर लीयो उठाई...
    हो ममता...

(२) तो लाख करोड़ी माया हो जोड़ी,
    कर-कर कपट कमाई
    नही तुन खाई, नही तुन खरची
    रई गई धरी की धरी...
    हो ममता...

(३) तो भाई बन्धू थारो कुटूम कबीलो,
    सबई रोवे रे घर बार
    घर की हो तीरीया तीन दिन रोवे
    दूसरो कर घर बार...
    हो ममता...

(४) तो हाड़ जल जसी बंध की हो लकड़ी,
    कैश जल जसो घाँस
    सोना सरीकी थारी काया हो जल
    कोई नी उब थारा पास...
    हो ममता......