भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्रांति के बिम्ब / नवारुण भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछेक कवि बगैर पैसे के डॉक्टरी कर रहे हैं
चाँद पर छलाँग लगाने से पहले प्रेमी गिरफ़्तार
पुलिस की गाड़ियाँ चौबीस घंटे के भीतर
स्कूल-बसों में तब्दील कर दी जाएँगी

आधी रात को जनविरोधी पार्टियों की लाइन
उखाड़ फेंकी जा रही है

लेटरबॉक्स में चिड़ियों के घोंसला बना लेने से काम ठप
किसी सिद्धांतकार ने एक्वेरियम में बिल्ली पाली है
रेडियो कोई नहीं बजाता क्योंकि नेताओं के भाषण सुनना
अच्छा नहीं लग रहा है

बहस हो रही है पौधों और नन्हीं मछलियों पर
उदास संगीत के प्रभाव को लेकर

अब आँसुओं से ही चलेंगी मोटर गाड़ियां
मज़दूरों का नाटक करने वाले मज़दूरों के हाथों परेशान
कौन कह सकता है समस्या नहीं है हमारी इस नई व्यवस्था में
क्या ऐसा ही लगता है समाचार सुनने के बाद ?

मूल बंगला से अनुवाद : अरविन्द चतुर्वेद

शब्दार्थ