भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्रान्ति-पुष्प / निदा नवाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारी पीठ पर
क्रूरता के चाबुक से बोई
ज़ख़्मों की फ़सल को
लहलहाते देख
वे हंस रहे हैं

और हम...
हर घाव की ख़ुशबू में उपजे
विद्रोह को देखकर
आश्वस्त हैं
कि आनेवाले समय में
ख़ुशी से मना पाएँगे हमारे बच्चे
हमारी पीठ के इतिहास पर खिले
क्रान्ति-पुष्प के त्योहार ।