भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्रान्ति गीत /राम शरण शर्मा 'मुंशी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ निर्धन, श्रम करने वालो,
धरती को धन से भरने वालो !

                       बोलो कब तक त्रास सहोगे?
                       कटु वाणी उपहास सहोगे?

तुम अगणित, भूखे, अधनंगे,
अपना घर, फिर भी भिखमंगे;

                       अन्न-वस्त्र को हाथ बढ़ाते
                       तुम निरस्त्र गोली ही पाते —

        इतने पर भी नहीं शत्रु को मिलता किंचित तोष !
                 करो-करो, नूतन रण का उद्घोष !
                           यह पवित्र आक्रोश !

बढ़ो ध्वजा अपनी फहराओ
रणभेरी का नाद गुँजाओ

                       कोटि-कोटि ओ तुम ! बढ़ आओ,
                       रण कौशल अपना दिखलाओ

दृढ़-प्रतिज्ञ वीरो, मतवालो;
शत्रु-शिविर पर घेरा डालो !

                       करो व्यूह की अद्‍भुत्त रचना,
                       विजय नीति की दृढ़ संरचना,

        कुटिल शत्रु की नियति मृत्यु है, नहीं तुम्हारा दोष !
                 करो-करो, नूतन रण का उद्घोष !
                           यह पवित्र आक्रोश !