भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्रान्ति / लाल बिहारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन रात से हलचल हलचल,
मन में रहे ना शांति।
अचके में का कहीं रे भाई,
फइलल सगरो क्रांति।।
जन-जन घुमल गली-गली में
अउर चउक-चउराहा।
मौसम के मिजाज अगिआइल
फइलल सगरो क्रांति।।
आइल उबाल दबकल जिनिगी में
गोरन के ठनकल माथा।
मोटरी बान्ह परइले सभनी
अइसन पसरल क्रांति।।