भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्लांत तन-मन रे कलापी... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  क्लांत तन-मन रे कलापी...

क्लांत तन-मन रे कलापी तीक्ष्ण ज्वाला मे झुलसता

बर्ह में धर शीश बैठे सर्प से कुछ न कहता,

भद्रमोथा सहित कर्म शुष्क-सर को दीर्घ अपने

पोतृमण्डल से खनन कर भूमि के भीतर दुबकने

वराहों के यूथ रत हैं, सूर्य्य-ज्वाला में सुलग कर

प्रिये आया ग्रीष्म खरतर!