भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्वणित नूपुर गूँज, लाक्षा रागरंजित... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  क्वणित नूपुर गूँज, लाक्षा रागरंजित...

क्वणित नूपुर गूँज, लाक्षा रागरंजित चरण धर-धर

प्रिय नितंबिनि सलज पग-पग पर गुँजाती हंस कल स्वर

मदन छवि साकार करतीं स्वर्ण रशना को डुला कर

तुहिन से सित हार चंदन लिप्त स्तन पर थिरक थिरक कर

इन्द्रजाल न डाल देते, कर न किसका हृदय आतुर

प्रिये ! आया ग्रीष्म खरतर !