भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्षणिकाएँ-1 / विपिन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
काटै तेॅ सब्भे छै-
हम्में हुनकोॅ खेत काटै छियै
आरो हुनी हमरोॅ पेट काटै छै !

2
हुनियो गनै छै !
आरो हम्हू गनै छियै-
हुनी नोट गनै छै
आरो हम्में तारा !

3
पानी की देखै छोॅ,
खाली की पानियें में डूबै छै ।
हुनी सुरा-सुन्दरी में डुबलोॅ छोॅत
आरो हम्में करजा में ।

4
कत्तेॅ उत्तम विचार छै-
बेचारा पर चारा डालै छै ।