भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कॾहिं चुप आँ, कॾहिं को ज़लज़लो आहीं! / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कॾहिं चुप आँ, कॾहिं को ज़लज़लो आहीं!
तूं भी हाणे मूं जाँ ई थी पियो आहीं॥

मां भी इत्तिफ़ाक़ जी जं़जीर जो हिकु गं/ढु।
तूं भी कंहिं हादसे जो सिलसिलो आहीं॥

मां भी थो ज़िंदगीअ जे कुन में चकिरायां।
तूं भी दरिया में सुहिणीअ जो दिलो आहीं॥

रखियलु पिस्तोल आ मुंहिंजे भी सीने ते।
तूं भी क़ातिल जो नीशानो सिधो आहीं॥

मां चिचिरियल बेकफ़न ॾाहिर जो लाशु आहियां।
तूं क़त्ल-ए सिन्धु जो नीशाँ चिटो आहीं॥

असीं अॼु भी ॾियूं था सुर ते सिरु पंहिंजो।
खणी आ चंगु ॿीजल, किथि लिको आहीं॥