भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खटकन / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परसों तो-
अध-रते आकाश की छाती में खटकते नक्षत्र-सा-
गड़ रहा था वह डंक!
मेरे हृदय में!
कल सुबह उठने पर जान पड़ा-
कि वह सूर्यास्त के समय की ढीली
पश्चिम हिंगुल-लेखा सा था!
कल शाम तक रह गया वह शान्त नील झील पर-
पंछी की चोंच से खिंची सिल्कन रेख-सा!

इस वक्त मैं अब काफ़ी ठीक हूँ!
वाह रे समय-बैद-
तेरी मरहम!