भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खटर-पटर मत कर / अनंतप्रसाद रामभरोसे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खटर-पटर मत कर दी चुहिया,
खटर-पटर मत कर!
तेरी खटर-पटर से मम्मी
हो जाती है तंग,
फिर भी बाज न आती हो तुम
करने से हुड़दंग।
क्यों शैतानी दिखलाती हो,
तुम मेरे ही घर!
कुटुर-कुटुर खा जाती हो सब
गेहूँ, चावल, दाल,
और कुतर कर कपड़े सारे
करती हो बेहाल।
बिल्ली मौसी का भी तुमको
जरा नहीं है डर!
इतनी उछल-कूद भी अच्छी
बात नहीं होती,
तेरी जैसी चूहिया एक दिन
पछताती, रोती।
सोच-समझकर अब तू भी तो
सही काम कुछ कर!