भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खड़ा ने सुन के सदा मेरी एक यार रहा / ग़ुलाम हमदानी 'मुसहफ़ी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खड़ा ने सुन के सदा मेरी एक यार रहा
गैं रह रवान ए अदग को बहुत पुकार रहा

क़फ़स से छोड़े है अब मुझ को क्या तू ऐ सय्याद
चमन के बीच कहाँ मौसम-ए-बहार रहा

पस-अज़-वफ़ात भी अपनी हुई न आँखें बंद
ज़बस के तेरे ही आने का इंतिज़ार रहा

ख़ुदा के वास्तु अब इस से हाथ उठा के मेरे
जिगर में नहीं नहीं ऐ चश्म-ए-अश्क-बार रहा

हुआ तू ग़ैर से जब हम-किनार मेरे साथ
कहाँ वो वादा रहा और कहाँ करार रहा

करूँ जो चाक गिरेबाँ को अपने हूँ मजबूर
के मेरे हाथ में मेरा न इख़्तियार रहा

न सैर-ए-लाला-ओ-गुल हम को कुछ नज़र आई
के नोक-ए-हर मिज़ा पर याँ दिल-ए-फिगार रहा

गली में उस की गए और वहाँ से फिर आए
तमाम उम्र यही अपना कारोबार रहा

ग़ज़ल इक और भी ऐ ‘मुसहफ़ी’ सुना दे तू
कोई कहे न के बंदा उम्मीद-वार रहा

ग़ज़ल इक और भी ऐ ‘मुसहफ़ी’ सुना दे तू
कोई कहे न के बंदा उम्मीद-वार रहा