भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खतम कहाणी / विनोद कुमार यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मा सुणावंती
नित नूईं कहाणी
कहाणी में
चोखी बातां
चोखी-चोखी बाणी

अेक हो राजा
अेक ही राणी
दोन्यूं मरग्या
ख़तम कहाणी
अर आज सांच्याणी
ख़तम होयगी
आ कहाणी

मा री कहाणी में ही
गो माता गोमती
टोगड़ियो गणेश
पण आ तो पळटगी
गा अर गा रा जाया
फिरै लट्ठ खांवता
डेरी बणगी बैरी
अब दूध
थणां सूं नीं
थैली सूं झरै
गा नीं
टैंकर देवे दूध
ठाह ई नीं पड़ै
किण घर रो है
दूध में समता है
पण ममता कोनीं।