भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ता मैं ने कोई भारी नहीं की / ताबिश मेहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ता मैं ने कोई भारी नहीं की
अमीर-ए-शहर से यारी नहीं की

मेरे ऐबों को गिनवाया तो सब ने
किसी ने मेरी ग़म-ख़्वारी नहीं की

मेरे शेरों में क्या तासीर होती
कभी मैं ने अदा-कारी नहीं की

किसी मंसब किसी ओहदे की ख़ातिर
कोई तदबीर बाज़ारी नहीं की

बस इतनी बात पर दुनिया ख़फ़ा है
के मैं ने तुझ से ग़द्दारी नहीं की