भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ामोशी / आन्ना अख़्मातवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

संकट की इस घड़ी में
जब भी मैं पुकारती हूँ
अपने मित्रों को
उनके घरेलू नामों से
आदतन

मेरी इस विलक्षण पुकार पर
मुझे ज़वाब नहीं देता कोई
ज़वाब देती है
फ़क़त ख़ामोशी

(8 नवम्बर, 1943)

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : सुधीर सक्सेना