भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुदा की याद दिलाते थे नज़अ में अहबाब / मोमिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुदा की याद दिलाते थे नज़अ1 में अहबाब2
हज़ार शुक्र कि उस दम वह बदगु़माँ3 न हुआ

मय न उतरी गले से जो उस बिन
मुझको यारों ने पारसा जाना

आहे-सहर5 हमारी फ़लक6 से फिरी न हो
कैसी हवा चली ये कि जी सनसना गया

किया तुमने क़त्ले-जहाँ इक नज़र में
किसी ने न देखा तमाशा किसी का

दिल में नासेह7 आये, क्या अपना ख़्याल
जा सके कब यार के मस्कन8 में हम

किए हैं तूल अमल ने तमाम काम ख़राब
हमेशा नज़्मे-जहाँ के हैं कार-बार मुझे

वह लाला-रुह-फ़ज़ा दे कहाँ तलक बोसे
कि जो है, काम है, यहाँ शौक़े-जाँ-फ़िशाँ9 के लिए


शब्दार्थ:
1. मृत्यु के समय साँस टूटना, 2. दोस्त, 3. भटका, 4. सदाचरण वाला, 5. सुबह का क्रंदन, 6. आकाश, 7. उपदेशक, 8. सराय, 9. कड़ी मेहनत की चाह