भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुद से पूछूँ मैं कैसे / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुद से पूछूँ मैं कैसे ?
ख़ुद को देखूँ मैं कैसे ?

जो मेरी साँसों में है,
उसको भूलूँ मैं कैसे ?

हरदम एक सफ़र है वो,
मंज़िल चाहूँ मैं कैसे ?

यारो ! इतना बिखरा हूँ
ख़ुद को बाँधू मैं कैसे ?

दिल में अब डर बसता है,
कुछ भी सोचूँ मैं कैसे ?

मिलती अच्छी क़ीमत भी,
पर बिक जाऊँ मैं कैसे ?